भीनमाल : महालक्ष्मी माताजी मंदिर के 35 वां पाटोत्सव धूमधाम से मनाया

कृपया ज्यादा से ज्यादा शेयर करें

भीनमाल(जालोर). श्रीमाली ब्राह्मण समाज की आराध्य देवी महालक्ष्मी माताजी का पैंतीस वां पाटोत्सव मनाया गया. भीनमाल शहर में महालक्ष्मी माताजी के मंदिर में प्राचीन काल से विशेष महत्व रहा है. भीनमाल शहर को पूर्व में महालक्ष्मी के आधार पर श्रीमाल नाम था. शहर के बीचों बीच मौजूद मंदिर में दिन भर लोगों का तांता लगा रहता है.

श्रीमाली ब्राह्मण समाज के अध्यक्ष शेखर व्यास, सचिव भगवतीप्रसाद दवे, कोषाध्यक्ष प्रवीण एम दवे (पार्षद), रवि ठाकुर, समाज के वयोवृद्ध जटाशंकर त्रिवेदी, श्याम बोहरा , रामचंद्र, कैलाश बोहरा, भंवरलाल दवे, यश दवे, रविकुमार दवे,अश्विन व्यास, भीमाशंकर दवे, प्रवीण कुमार, श्याम दवे, प्यारेलाल व्यास, अरविंद, रतन दवे,सहित ब्राह्मण समाज के बन्धु-उपस्थित थे ।
ध्वजा के लाभार्थी हीरालाल, सुभाषचंद्र देवदानी परिवार की और से राहुल दवे व मनीष दवे व हिमांशी दवे ने मातेश्वरी के ध्वजा चढ़ाई व मातेश्वरी से प्रार्थना की गई कि इस राष्ट्र को शीघ्रताशीघ्र कोरोना महामारी से दोष मुक्त करें व श्रीमाली ब्राह्मण समाज के उत्तरोत्तर प्रगति की कामना की गई. प्रातः सूक्ष्म यज्ञ में आहुतियां दी गई.
मातृ शक्ति द्वारा मंगलगीत व भंजन की प्रस्तुति दी।
मन्दिर का पुष्प मालाओ से शृंगार किया गया व पुजारी महादेव भाई व कर्ण द्वारा मातेश्वरी के शृंगार पूजा की गई. एवं पुजारी हितेश द्वारा वामेश्वर महादेव, हनुमान जी, मनसुखानंद जी की पुजा अर्चना कर श्रीमाली ब्राह्मण समाज द्वारा ध्वजा चढ़ाई गई
पूरा कार्यक्रम सीमित संख्या व सोशलडिस्टेंसिंग से सम्पन्न हुआ.

कोरोना के नियमों की पालना के साथ हुआ आयोजन:

हर वर्ष महालक्ष्मी मंदिर के पाटोत्सव को लेकर विभिन्न आयोजन आयोजित किये जाते है. कोरोना के चलते इस वर्ष ध्वजा कार्यक्रम के साथ नियमों का पालन करते हुए. पाटोत्सव का आयोजन किया गया. इस दौरान बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे मगर कार्यक्रम के दौरान पूर्णतया सोशल डिस्टेनिग का पालन किया.

कृपया ज्यादा से ज्यादा शेयर करें

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*